Saturday, May 5, 2018

कार्ल मार्क्स की 200 वीं जयंती :- मार्क्सवाद के साथ गांधी मार्ग का समन्वय समय की मांग है--जीवेश प्रभाकर

कार्ल मार्क्स की 200 वीं जयंती पर एक फुरसतिया चिंतन---
मार्क्सवाद के साथ गांधी मार्ग का समन्वय समय की मांग है—  जीवेश प्रभाकर
मार्क्सवाद के समग्र चिंतन का केंद्रीय चरित्र या धूरी जिसे कह सकते हैं वो है द्वंद्वात्मकता मार्क्स की द्वंद्वात्मक दृष्टि में विश्व की तमाम वस्तुएं यहां तक कि घटनाएं व गतिविधियां भी उनकी गति, उनके द्वंद्व और परिर्वतन पर निहित है जिसके अंतर्विरोधों को मानवीय संदर्भ में हल करने के लिये द्वंद्वात्मकताएक अनिवार्य दृष्टि है।
      मार्क्सवाद के साथ गांधी मार्ग का समन्वय समय की मांग है जिस पर मार्क्सवादियों को गंभीरता से विचार करना चाहिए। सैद्धांतिक रूप से गांधीवाद के साथ समन्वय निश्चित रूप से काफी कठिन है मगर यदि इससे आपके आंदोलन को स्वीकृति व समर्थन हासिल होती हो तो जमीनी लड़ाई के लिए गांधी मार्ग को अपनाने में कोई दुविधा भी नहीं होनी चाहिए ।


हमारे देश मे मार्क्सवाद अभी भी आम जनता के लिए रहस्यमई बना हुआ है । वो पार्टियां जो मार्क्सवादी हैं सैद्धांतिक रूप से तो सर्वहारा वर्ग की पैरोकार होने की कोशिश करती हैं मगर व्यवहारिक रूप से उनसे जुड़ नही पाई हैं । सर्वहारा वर्ग के बीच वे जिस बौद्धिक आतंक के साथ जुड़ना चाहती हैं वो उनसे इसी भय से दूर होता जाता है । भारतीय परिस्थितियों में ये द्वंद्वात्मकता ही इन पार्टियों की सबसे बड़ी समस्या है ।
हाल ही में नाशिक किसान आंदोलन की पूरे देश में काफी चर्चा हुई । एक सप्ताह का यह मोर्चा एक नया इतिहास रच गया जिसके भीतर से उठती ध्वनियों में एक नई स्वरलहरी की अनुगूंज है जिसे समझना ज़रूरी है । 25-30 वर्षों में पली बढ़ी नौजवान पीढ़ी के वैश्विक नवउदारवाद व मुक्त बाज़ार से स्वप्नभंग हाशिए पर जाती मार्क्सवादी पार्टियों को मार्क्सवाद का गांधी मार्ग के जरिए क्रियान्वयन संभवतः नई संजीवनी दे सकती है ।
जीवेश प्रभाकर

Thursday, April 19, 2018

रायपुर - स्मृतियों में झरोखे से 12----प्रभाकर चौबे


      रायपुर शहर एक छोटे से कस्बे से धीरे धीरे आज छत्तीसगढ़ की राजधानी के रूप में लगातार विकसित हो रहा है । इत्तेफाक ये भी है कि इस वर्ष हम अपने नगर की पालिका का150 वॉ वर्ष भी मना रहे हैं ।
         हमारी पीढ़ी अपने शहर के पुराने दौर के बारे में लगभग अनभिज्ञ से हैं । वो दौर वो ज़माना जानने की उत्सुकता और या कहें नॉस्टेलजिया सा सभी को है । कुछ कुछ इधर उधर पढ़ने को मिल जाता है। सबसे दुखद यह है कि कुछ भी मुकम्मल तौर पर नहीं मिलता। 
        बड़े बुज़ुर्गों की यादों में एक अलग सा सुकूनभरा वो कस्बा ए रायपुर अभी भी जिंदा है । ज़रा सा छेड़ो तो यादों के झरोखे खुल जाते हैं और वे उन झरोखों से अपनी बीते हुए दिनों में घूमने निकल पड़ते हैं। इस यात्रा में हम आप भी उनके सहयात्री बनकर उस गुज़रे जमाने की सैर कर सकते हैं।
   इसी बात को ध्यान में रखकर हम अपने शहर रायपुर को अपने बुज़ुर्गों की यादों के झरोखे से जानने का प्रयास कर रहे हैं । इस महती काम के लिए छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ साहित्यकार श्री प्रभाकर चौबे अपनी यादों को हमारे साथ साझा करने राजी हुए हैं । वे  रायपुर से जुड़ी अपनी स्मृतियों को साझा कर रहे हैं । एक बात स्पष्ट करना जरूरी है कि ये कोई रायपुर का अकादमिक इतिहास नहीं है ये स्मृतियां हैं । जैसा श्री प्रभाकर चौबे जी ने रायपुर को जिया । एक जिंदा शहर में गुज़रे वो दिन और उन दिनों से जुड़े कुछ लोगघटनाएंभूगोलसमाज व कुछ कुछ राजनीति की यादें ।  और इस तरह गुजश्ता ज़माने की यादगार तस्वीरें जो शायद हमें हमारे अतीत का अहसास कराए और वर्तमान को बेहतर बनाने में कुछ मदद कर सके।
        आपकी प्रतिक्रियाओं और सुझावों का भी स्वागत रहेगा।
जीवेश प्रभाकर
अपनी बात
        मन हुआ रायपुर पर लिखा जाए - बहुत पहले देशबन्धु का साप्ताहिक संस्करण भोपाल से प्रकाशित हो रहा था तब 12 कड़ियों में रायपुर पर लिखा थाखो गया । पुन: कोशिश कर रहा हूँ - इसमें कुछ छूट रहा हो तो पाठक जोड़ने का काम कर सकते हैं । रायपुर के बारे में  एक जगह जानकारी देने का मन है - अपना रायपुर पहले क्या कैसा रहा ...।   
-प्रभाकर चौबे

रायपुर - स्मृतियों में झरोखे से 12
1945 में आगे की पढ़ाई के लिए रायपुर आया उन दिनों बच्चों में बीच चकर बिल्ला, पिट्टुल, मंजा पतंग, छिपा- छिपाऊ खेल चलन में थे। वैसे छोटी रबर की गेंद (पुक) भी खूब खेलते। लड़कियां भी बिल्लस खेलती। लड़कियों के बिल्लस खेल के लिए जो घेरे बनाये जाते वे बालकों के घेरों की अपेक्षा छोटे होते वैसे छोटे भाई-बहन उसी में घर में कमरे या आंगन में खेलकर अपना मनोरंजन कर लेते। मंजा खूब लोकप्रिय था और डाट भी पड़ती थीं। दिन भर मंजा खेलता है स्कूल से आये नहीं कि चले मंजा खेलने । लोहे के छोटी -बड़ी रिंग भी बनती जिसे सड़क पर दौड़ाते, कुछ बच्चे सायकल का टायर दौड़ाते एक और खेल था - यह बरसात में खेला जाता नाली के किनारे गीली मिट्टी पर लोहे का टुकड़ा गडाना होता टुकडा न गड़े तो लंगड़े होकर दौड़ना पड़ता पीछे बच्चे चिलाते लंगड़ी घोड़ी टांग तोड़ी बारह बच्चे लेकर दौड़ी ....?
स्कूल टुर्नामेंट में बच्चों के लिए केला दौड़, चम्मच दौड़, टिटंगी दौड़ थ्रो लेगेड़ रेस, बोरा दौड़ की प्रतियोगिता थी।  छोटी खो, कबड्डी , डकबेस का ड्रिल थी। स्कूल में भी रिसेस में या पूरी छुट्टी होने पर रामरस या पिट्टुल या छुआ-छुआइल खेल लेते।  घर के छोटे-मोटे काम जैसे बाजार जाकर दौड़कर धनिया-मिर्च टमाटर ले आने का काम या गर्मी में नीबू खरीदकर लाना । प्राथमिक विद्यालय के कुछ गुरुजी बच्चों के बीच खेल सिखाने (ड्रिल टीचर) के लिए प्रसिध्द रहे एक थे छोटे लाल गुरुजी ...छोटे पारा प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक थे। प्राय हर मोहल्ला में एक प्राथमिक शाला थी एक खान गुरुजी थे जो उर्दू प्राथमिक शाला तात्यापारा में पढ़ाते थे। जहां आज नवीन बाजार है वहीं उन दिनों एक  तरफ हिन्दी प्राथमिक शाला व दूसरी तरफ उर्दू प्राथमिक शाला के भवन थे। शिक्षा अधिकारी के रूप में गोरे सर प्रसिध्द थे -वे कभी कभी शनिवार को किसी स्कूल में मासड्रिल लेने पहुंच जाते उनका रूतबा था। संभागीय शिक्षा अधिकारी के रूप में लाला दीनानाथ का नाम था। वे स्कूली टुर्नामेंट में पूरी व्यवस्था खुद र्जज लेकर करते और गोरे सर का पूरा सहयोग मिलता कभी-कभी जरूरत महसूस करते तो मैदान में चूने से ट्रेक भी बनाने भिड़ जाते। 1946 में यहां केरेवाल कलेक्टर थे । उन्होंने सम्भागीय टुर्नामेंट में चैम्पियन रहे स्कूल एवीएम स्कूल (अब लाखे स्कूल) को सम्मनित किया था।
हर रविवार को बालकटाना अनिवार्य होता था। कुछ घरों में बाल काटने वाले बंधे थे- हर रविवार को सुबह पहुंच जाते स्कूलों में कोई यूनिफार्म निर्धारित नहीं था और किताब कापी के लिए यह नियम भी नहीं था कि खास चिकने कागज का ही जिल्द ला गया जाए... अधिकतर पुराने अखबार का जिल्द लगाते । पुस्तक को साफ सुथरी रखने पर जोर दिया जाता था क्योंकि आधे कीमत में किताबे बिक जाती कोई-कोई किसी जरूरतमंद को दे देता था। छोटे भाई के काम आती । मध्यवर्ग बड़े ही मितव्ययिता से काम लेता ।  घरों में डबलरोटी बिस्कुट का चलन नहीं था। सुबह रात की रोटी तल कर नास्ता कर लिया जाता शाम को स्कूल से आने पर रोटी की पूंगी घी लगाकर शक्कर या नमक मलकर कर नास्ता होता। मेट्रिक तक हाफपेंट पहनकर स्कूल जाते शिक्षक ही फुलपेंट में आते।
दीपावली के बाद बाहर से रामलीला मंडली आती और एक-एक माह तक रामलीला चलती। उन दिनों बाहर की नाटक मंडली आती 1947-1948 के बाद नाटक मंडली का आना बंद हो गया था। दूधाधारी मठ में एक माह तक चलने वाली रामलीला होती और शहर में तथा आस-पास गांवों में इस की अच्छी ख्याति थी। रामलीला मंडली आती और रोज एक खेल के बाद मंडली का मुखिया दर्शकों से निवेदन करता कि कल मंडली का भोजन किसकी ओर से .... ? कोई न कोई खड़े होकर मुखिया के हाथ की माला लेकर भगवान राम के गले में डालता मतलब मंडली का कल का भोजन उसकी तरफ से ... दूसरे दिन दोपहर के भोजन के लिए पूरी साज-सज्जा के साथ टांगे में बैठकर मंडली भोजन करने जाती ... रास्ते में कुछ श्रध्दालु आरती उतारते कुछ चढाते भी। रामसागकर पारा में जहां आज रामचन्द सीता दास सिंधी हाई स्कूल है वहीं बाडा था जहां रामलीला खेली जाती रही।
कभी कभार कोई बालक बालिका माता के पिता के साथ कोई फिल्म देख आता तो वह अपने मित्रों को उसकी कहानी सुनाता यह एक तरह का उनका मनोरंजन था। सर्कस काफी सालो तक आते रहे रजबंधा मैदान में सर्कस लगता दोपहर को बच्चे जानवर देखने जाते थे।
जारी.....